शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

वो कहते हैं ......

वो कहते हैं ......
खामोशियों की चुभन 
लफ़्ज़ों से कहीं ज्यादा .......
बहुत "भीतर" होती है
पर 
ये भी सच है कि.......
खामोशियों की पहल 
लफ़्ज़ों से कहीं ज्यादा .......
बहुत "बेहतर "होती है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...