Follow by Email

शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

वो कहते हैं ......

वो कहते हैं ......
खामोशियों की चुभन 
लफ़्ज़ों से कहीं ज्यादा .......
बहुत "भीतर" होती है
पर 
ये भी सच है कि.......
खामोशियों की पहल 
लफ़्ज़ों से कहीं ज्यादा .......
बहुत "बेहतर "होती है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें