Follow by Email

शनिवार, 23 जनवरी 2016

कलम के हर्फ़ से

बित्ती भर तो दिखती हो.....
इतने शब्द कहाँ रखती हो ?
मैंने कलम से पूछा ...
ठोस वाले ....बहा देती हूँ
गीले वाले... सुखा देती हूँ
और ....
उड़ने वाले ....दबा देती हूँ

मैं ...अपने शब्द ...
तीन अवस्थाओं में धरती हूँ
कलम चूमना ....तो बनता था मेरा
हट परे ........झल्ली  !
कहकर कलम ने आज फिर...
मेरा चुम्बन पोंछ दिया ...
पर ....वो कहते हैं ना ....
जो "छप "गया .....सो " छप" गया

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें